वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप – WTC Final Ground कौनसा होगा ?

मेरा 4 साल का बच्चा पूछता है कि एक पक्षी उड़ रहा है और उड़ते -उड़ते वो अंडा देता है पर अंडा ग्राउंड पर नहीं गिरता पूछो क्यों ?

मैंने पूछा -क्यों ?

मेरा बेटा- क्यों की पक्षी ने अंडरवियर पहन रखा था । उसके बाद वो खूब जोर-जोर से हँसता है ।

ओह ग्राउंड से याद आया WTC Final Ground कौनसा है ? या किस मैदान पर खेला जायेगा WTC का फाइनल मैच ? ये सवाल हर कोई पूछ रहा है । ये सवाल इसलिए ज्यादा पूछा जा रहा है क्योंकि जब वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (WTC) शुरू हुई थी तब फाइनल मैच के लिए ऎतिहासिक लॉर्ड्स ( इंग्लैंड ) मैदान की घोषणा हुई थी ।

कोरोना के बढ़ते प्रभाव के कारण खिलाडियों की और दर्शकों की सुरक्षा को देखते हुए फाइनल मैच के मैदान को लॉर्ड्स से बदलकर अब रोज बाउल, सॉउथम्पटन, इंग्लैंड कर दिया गया है ।

रोज बाउल , सॉउथम्पटन ( इंग्लैंड )

WTC का फाइनल अब रोज बाउल , सॉउथम्पटन के खूबसूरत मैदान पर होगा ।

चलिए चर्चा करते है वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मुकाबले के मैदान और उस से जुडी हुई सारी बातें>>>>

कब और क्यों बदलना पड़ा WTC Final Ground (Venue) ?

29 जुलाई 2019 को ICC  ने आधिकारिक रूप से वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप की घोषणा की । इसके अनुसार फाइनल लॉर्ड्स के मैदान पर 18-22 जून 2021 को होना तय किया गया । ये टेस्ट चैंपियनशिप 2019 से 2021 तक लम्बे समय तक चलने वाली चैंपियनशिप रही है ।

पर जैसा की आपको पता है कोरोना महामारी ने 2020 -2021 में काफी कुछ बदल दिया । कोरोना का प्रभाव वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप पर भी पड़ा ।

इस टेस्ट चैंपियनशिप में भी कोरोना के कारण मार्च 2020 के बाद पाकिस्तान वर्सेज बांग्लादेश , श्री लंका वर्सेज इंग्लैंड , ऑस्ट्रेलिया वर्सेज बांग्लादेश , वेस्ट इंडीज वर्सेज इंग्लैंड , बांग्लादेश वर्सेज न्यूज़ीलैण्ड , श्रीलंका वर्सेज बांग्लादेश , साउथ अफ्रीका वर्सेज वेस्ट इंडीज प्रभावित रही ।

कुछ सीरीज स्थगित करनी पड़ी और कुछ आगे बढ़ाई गई। कोरोना की स्थिति को देखते हुए ही WTC Final ground के लिए जो लॉर्ड्स का मैदान तय था उसकी जगह इंग्लैंड के ही सॉउथम्पटन के मैदान को चुना गया ।

ICC ने 10 मार्च 2021 को लॉर्ड्स की जगह सॉउथम्पटन को चुना गया क्यों कि खिलाडियों कि सुरक्षा और बेहतर बायो-बब्बल पर्यावरण और खिलाडियों के लिए अच्छे होटल और प्रैक्टिस के लिए बेहतर ग्राउंड को देखते हुए सॉउथम्पटन का मैदान ज्यादा अच्छा है।

रोज बाउल ,सॉउथम्पटन के मैदान बारे में-

रोज बाउल मैदान को अजस बाउल ( Ageas  bowl ) और हैम्पशायर ( Hampshire ) क्रिकेट मैदान भी कहते है जो की हैम्पशायर काउंटी क्रिकेट क्लब का 2001 से होम ग्राउंड है ।

कोरोना के प्रभाव को देखते हुए यहाँ बहुत ही बेहतर बायो-बब्बल और सुरक्षित माहौल है इसलिए WTC  फाइनल मैच को लॉर्ड्स से बदलकर यहाँ किया गया है ।

खुबसूरत मैदान के अलावा यहाँ 5 स्टार होटल और खिलाडियों के नेट प्रैक्टिस के लिए बेहतर सुविधा है । यहाँ मैच को देखने के लिए 4000 दर्शक को अनुमति दी जाएगी ।

रोज बाउल ,सॉउथम्पटन क्रिकेट ग्राउंड के टेस्ट रिकार्ड्स

  • टीम का उच्चतम स्कोर -583/8 इंग्लैंड ने बनाये पाकिस्तान के खिलाफ,2020
  • टीम का सबसे कम स्कोर -178 भारत ने बनाये इंग्लैंड के खिलाफ 2014
  • उच्चतम व्यक्तिगत स्कोर – 267 ज़क करावली ( Zak Crawley ) इंग्लैंड , ने बनाये पाकिस्तान के खिलाफ,2020
  • एक पारी में सबसे अच्छी गेंदबाज़ी – 42/6 जैसन होल्डर (वेस्ट इंडीज ) के द्वारा इंग्लैंड के खिलाफ ,2020
  • एक मैच में सबसे अच्छी गेंदबाज़ी -137/9 शैनन गाब्रिएल ( Shannon  Gabriel ) वेस्ट इंडीज , इंग्लैंड के खिलाफ,2020

रोज बाउल , सॉउथम्पटन ग्राउंड पर टेस्ट क्रिकेट का औसत स्कोर

  • पहली पारी का औसत स्कोर- 337
  • दूसरी पारी का औसत स्कोर- 280
  • तीसरी पारी का औसत स्कोर- 262
  • चौथी पारी का औसत स्कोर- 187

सॉउथम्पटन क्रिकेट ग्राउंड पर इंडिया का टेस्ट रिकॉर्ड

भारत ने 2 टेस्ट मैच खेले है रोज बाउल क्रिकेट ग्राउंड पर , दोनों ही टेस्ट मैच इंग्लैंड के खिलाफ खेले है और यहाँ खेले दोनों मैचों में भारत को हार का सामना करना पड़ा ।

Team 1ScoreTeam 2scoreWinnerMarginDate
England569/7 d & 205/4 dIndia330 & 178England26627th-31th July 2014
England246 & 271 India273 & 184England6030th Aug.- 2nd sept. 2018

WTC का फाइनल होगा भारत और न्यूज़ीलैण्ड के बीच और न्यूज़ीलैण्ड ने इस ग्राउंड पर अभी तक एक भी टेस्ट मैच नहीं खेला है ।

सॉउथम्पटन ग्राउंड की पिच रिपोर्ट :

जैसा की हम जानते है इंग्लैंड की पिच तेज़ गेंदबाज़ो के लिए बहुत मददगार होती है । रोज बाउल सॉउथम्पटन की पिच इंग्लैंड की सबसे तेज पिचों में से एक है । सॉउथम्पटन की पिच से भी फ़ास्ट बॉलर को उछाल और स्विंग मिलेगी । गेंदबाज़ी के लिहाज़ से बहुत अच्छी पिच है ।

बल्लेबाज़ी के लिहाज़ से पिच पर टिके रहना और रन बनाना कठिन रहेगा । शुरुआत में जब नई होती है तो ज्यादा स्विंग होती है और ज्यादा उछाल भरे बाउंस से बल्लेबाज़ी बहुत मुश्किल होती है । ओपनर की इस पिच पर कठिन परीक्षा होती है ।

तेज गेंदबाज़ो के अलावा स्पिनर को भी पिच से मदद मिलती है । अनियमियत उछाल का स्पिन गेंदबाज़ फायदा उठा सकते है ।

रोज बाउल , सॉउथम्पटन टेस्ट क्रिकेट ग्राउंड पिच रिपोर्ट

गेंदबाज़ के हिसाब से –

टेस्ट मैच की बात की जाये तो गेंदबाज़ और तेज गेंदबाज़ इस पिच पर गेंदबाज़ी को पसंद करते है । पहले दिन से ही फ़ास्ट गेंदबाज़ो को स्विंग और उछाल मिलना शुरू हो जाता है और जैसे जैसे टेस्ट मैच आगे बढ़ता है फ़ास्ट गेंदबाज़ो को ओर मदद मिलने लगती है ।

तेज गेंदबाज़ों के अलावा स्पिनर के लिए भी ये पिच काफी मददगार और टर्निंग पिच है । टेस्ट मैच के 4-5 दिन में गेंद स्पिन और टर्न होने लगती है और उछाल भी प्राप्त करती है ।

बल्लेबाज़ के हिसाब से-

बल्लेबाजों के लिए ये पिच पहले 1-2 दिन थोड़ी सी राहत भरी रहती है। पर ओपनर के लिए पहले दिन भी काफी कठिन ही रहती है । यहाँ किसी भी बल्लेबाज़ के लिए रन बनाना आसान नहीं रहता । 4-5 दिन स्पिन गेंदबाज़ो को भी मदद मिलने लग जाती है तो बल्लेबाज़ी ओर ज्यादा मुश्किल हो जाती है ।

WTC Final (The ultimate Test)में टॉस का महत्व

जैसा की आपने ऊपर हर पारी का एवरेज स्कोर देखा है पहली पारी में रन बनाना थोड़ा सा आसान रहता है तो टॉस जीतने वाली टीम यहाँ पर पहले बल्लेबाज़ी करना पसंद करेगी ताकि अच्छा स्कोर बना कर मैच में बढ़त बना सके ।

Lets Catch it Yaar

Ravi Bakolia

Hi... i m Ravi Bakolia here .. i have done graduation in IT stream ... i just love read and write about the things i passionate about ... cricket is my passion and happy to share amazing facts , things and stats about cricket. i m new in blogging field , need your love, support and blessing ...thanks..Lets catch it yaar

Leave a Reply