ऋचा घोष भारत की तरफ से सबसे तेज फिफ्टी लगाने वाली तूफानी बल्लेबाज़ – Richa Ghosh Biography (Hindi) 2022

क्रिकेटर ऋचा घोष
#क्रिकेटर #ऋचा-घोष
क्रिकेटर ऋचा घोष
#क्रिकेटर #ऋचा-घोष

कैसा लगेगा आपको जब आपको पता चले कि वो सिर्फ 11 साल की थी और अंडर-19 में खेल रही थी उसके अगले ही साल अंडर 23 में खेलने लग गयी। और मात्र 16 साल की उम्र में भारत की महिला क्रिकेट टीम में वर्ल्ड कप में खेल रही थी। सब कुछ जल्दी जल्दी हो रहा है ना। जी हाँ भारतीय महिला क्रिकेट टीम में वर्ल्ड कप 2022 की 15 सदस्यी टीम में शामिल ऋचा घोष की जिंदगी में सब कुछ जल्दी जल्दी इसलिए हो रहा है क्यों की उनके खून में ही क्रिकेट है।

ऋचा के पिता क्रिकेट मैचों में अंपायर करते थे और मात्र 3 साल की उम्र से ही ऋचा अपने पापा के साथ क्रिकेट मैदान में जाने लग गयी थी और बहुत जल्दी ही क्रिकेट की ट्रैनिंग लेने लग गयी और फिर तो सब जल्दी जल्दी होता ही गया।

तो आज हम ऋचा घोष की बायोग्राफी हिंदी में पढ़ेंगे। ऋचा घोष की काबिलियत , क्रिकेट के प्रति जुनून और क्रिकेट की बारीकियों की समझ सच में हैरान और खुश कर देती है।

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की शानदार विकेटकीपर और जबरदस्त बल्लेबाज़ ऋचा घोष के जीवन से जुडी खूब सारी बातों का सिलसिला शुरू करते है –

संघर्ष भरा सफर और टर्निंग पॉइंट – क्रिकेट में कैसे आना हुआ ??

ऋचा के पिता मानबेन्द्र घोष से कहानी की शुरुआत करते है। मानबेन्द्र घोष क्रिकेट क्लब में क्रिकेट खेलते थे और उनको जल्दी ही पता चल गया था की वे क्रिकेटर नहीं बन पाएंगे पर क्रिकेट के प्रति जूनून काफी था इसकारण बंगाल में ही क्रिकेट अंपायरिंग करने लग गए। अपनी छोटी सी गुड़िया ऋचा को मैदान में अपने साथ लेकर जाते। बहुत जल्दी ऋचा को क्रिकेट रास आने लग गया और इनके पिता ने देखा की ऋचा को लड़को की तेज गेंदबाज़ी से बिलकुल डर नहीं लगता वो स्वाभाविक रूप से अच्छे शॉट्स लगाने लग गयी और 10-11 की उम्र में ही काफी शानदार क्रिकेट खेलने लग गयी थी।

कहते है न कुछ खिलाडी कुदरती टैलेंटेड होते है कुछ ऐसा ही टैलेंट था ऋचा घोष में। पर साथ ही कहते है की हर कहानी में संघर्ष होता है त्याग होता है बलिदान होता है तो कुछ यूँ समझ लीजिये इस कहानी में ऋचा के पिता मानबेन्द्र ने काफी भाग दौड़ की अपनी बेटी ऋचा और परिवार के लिए।

इनके पिता को ऋचा की बीमार माँ को भी देखना पड़ता इनकी बड़ी बहन की पढाई भी देखनी पड़ती और साथ ही ऋचा की क्रिकेट ट्रेनिंग और मैच भी देखने पड़ते। जब कभी ऋचा के मैच होते तो ये 12-13 घंटे सफर करके इनको ऋचा के साथ कोलकाता जाना पड़ता क्यों की ऋचा बहुत छोटी थी । इन सब के चलते इन्होने अपना बिज़नेस ही समेट लिया।

ऋचा घोष का पारिवारिक परिचय (Family Background of Richa Ghosh)

नामऋचा घोष
पूरा नामऋचा मानबेन्द्र घोष
जन्मदिन28 सितम्बर 2003
उम्र18 साल( Up to 2022)
जन्मस्थानसिलीगुड़ी , पश्चिम बंगाल
पिता का नाममानबेन्द्र घोष
माता का नामस्वपना घोष
बहन का नामशोमाश्री
पति / बॉयफ्रेंड
गांव / शहर का नामसिलीगुड़ी , पश्चिम बंगाल
स्कूलमार्गरेट इंग्लिश स्कूल सिलीगुड़ी
कॉलेज

ऋचा घोष का क्रिकेट प्रोफाइल – Cricket Career and Stats of Richa Ghosh

नामऋचा घोष
पेशाभारतीय महिला क्रिकेटर
भूमिकाविकेटकीपर बल्लेबाज़
बैटिंग स्टाइलदांये हाथ की बल्लेबाज़
बोलिंग स्टाइलदांये हाथ की मध्यम गति की गेंदबाज़
जर्सी नंबर13
टीमइंडिया वीमेन , ट्रैल्ब्लैज़रस
कोच / मेंटरगोपाल साहा बिबेल सरकार
अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यूटी-20 डेब्यू – 02 फरवरी 2020 , ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ
वन डे में डेब्यू -21 सितम्बर 2021, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ
टेस्ट में डेब्यू – अभी तक नहीं किया

ऋचा का डोमेस्टिक क्रिकेट करियर ( Fantastic Domenstic cricket career of Richa Ghosh)

ऋचा घोष ने भगा जतिन क्लब से क्रिकेट की ट्रेनिंग लेने शुरुआत की। इनके टैलेंट का जल्दी ही सबको पता चल गया और 11 साल की उम्र में बंगाल की अंडर19 की टीम में सेलेक्ट हो गयी और अगली साल बंगाल की अंडर 23 टीम में खेलने लग गयी ।

ऋचा मात्र 13 साल की उम्र में बंगाल की टीम से खेलने लग गयी और साल 2018 में सिर्फ 13 साल की उम्र में इनको बंगाल प्लेयर ऑफ़ द ईयर का अवार्ड भी मिला। इतनी काबिलियत और टैलेंटेड लड़की सबकी नजर में जल्दी ही आ जाती है और यही हुआ , मात्र 16 साल की उम्र में भारतीय टीम में चयन हो गया।

ऋचा घोष का अब तक का क्रिकेट सफर (Cricket Journey of Richa Ghosh so far)

FormetMatchInningsRunHigh ScoreAverageStrike Rate
WODI772226544.49105.21
WT20131118044*22.50116.12

न्यूज़ीलैण्ड के खिलाफ 22 फरवरी 2022 को खेले गए मैच में ऋचा घोष ने सिर्फ 26 गेंदों में अर्धशतक बना कर भारत की तरफ से सबसे तेज अर्धशतक लगाने का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है। जिस तरफ से मात्र 28 गेंदों की पारी में ऋचा ने रचने 4 छक्के और 4 चोक्के लगाकर ताबड़तोड़ 52 रन की पारी खेली देखकर मजा आ गया।

अभी ऋचा घोष ने क्रिकेट के कुछ ही मैच खेले है पर जिस तरह से इनकी एप्रोच रहती है और जिस आत्मविस्वास से विस्फोटक बल्लेबाज़ी करती है ,आने वाले समय में भारतीय टीम को इस खिलाडी से बहुत उम्मीद है। इस वर्ल्ड कप में ऋचा घोष एक मैच विनर खिलाडी बनकर आ सकती है।

ऋचा घोष का व्यक्तिगत परिचय – Personal Profile of Richa Ghosh

नामऋचा घोष
निकनेमऋचा
लम्बाई165 cm
वजन60 kg
आँखों का रंगकाला
बालो का रंगकाला
बॉडी का रंगगोरा
नेटवर्थ इनकम5 मिलियन लगभग
इंस्टाग्राम अकाउंटRicha Ghosh Instagram
फेसबुक अकॉउंटRicha Ghosh Facebook
ट्विटर अकाउंटRicha Ghosh Twitter

ऋचा घोष की ताकत/खाशियत

ऋचा घोष की ताकत है उनकी बल्लेबाज़ी में लम्बे लम्बे शॉट लगाने की क्षमता ।, ऋचा बैटिंग , विकेट कीपिंग के अलावा गेंदबाज़ी भी कर सकती है। और बंगाल के लिए कुछ मैचों में इन्होने बैटिंग , बोलिंग , कीपिंग , फील्डिंग सब किये है। इनके कोच सहिब शंकर पॉल कहते है कि “She’s a coach’s delight, a God-gifted talent.”
ऋचा के पापा कहते है कि ऋचा के पास नेचुरल बैटिंग है और ये हर परिस्थिति में बिना दबाव के खेलने की क्षमता रखती है। हर स्थिति के लिए आत्मविस्वाश से भरी रहती है।

ऋचा घोष की ताकत है उनकी बल्लेबाज़ी में लम्बे लम्बे शॉट लगाने की क्षमता ।, ऋचा बैटिंग , विकेट कीपिंग के अलावा गेंदबाज़ी भी कर सकती है और बंगाल के लिए कुछ मैचों में इन्होने बैटिंग, बोलिंग, कीपिंग, फील्डिंग सब किये है।

इनके कोच सहिब शंकर पॉल कहते है कि “She’s a coach’s delight, a God-gifted talent.”

ऋचा के पापा कहते है कि ऋचा के पास नेचुरल बैटिंग है और ये हर परिस्थिति में बिना दबाव के खेलने की क्षमता रखती है। हर स्थिति के लिए आत्मविस्वास से भरी रहती है।
वर्ल्ड कप 2022 में ऋचा घोष मैच विनर के रूप में छाप छोड़ सकती है। इस प्रतिभावान खिलाडी पर सबकी नजर रहने वाली है।

क्या क्या पसंद है हमारे स्टार ऋचा घोष को ?? Favourite,Hobbies

पसंद ऋचा घोष
खाना
क्रिकेटरसचिन तेंदुलकर , महेंद्र सिंह धोनी
हीरो
हीरोइन
फिल्ममूवी देखना बहुत पसंद है।
गाने
सिंगर
टीवी शो / सीरियल
डायरेक्टर
पुस्तक
कार
जगह
नेटवर्थ इनकम

इस खिलाडी के catch it point और अनकहे तथ्य

  • ऋचा घोष के सचिन तेंदुलकर रोल मॉडल या आइडियल क्रिकेटर है।
  • ऋचा को महेंद्र सिंह धोनी भी पसंद है और उनको देखकर ही इन्होने विकेट कीपिंग शुरू की है। ऋचा महेंद्र सिंह धोनी की तरह छक्के लगाने में भी माहिर है।
  • भारत की तरफ से वन डे मैचों में सबसे तेज फिफ्टी बनाने का रिकॉर्ड ऋचा घोष के नाम है।
  • ऋचा को स्टार खिलाडी बनाने में काफी सारे कोच और मेंटर का योगदान है। ऋचा के पहले कोच इनके पापा मानबेन्द्र फिर शिब शंकर पॉल , बरुन बनर्जी , गोपाल साहा बिबेल सरकार , इसके अलावा द क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ़ बंगाल का भी बहुत बड़ा योगदान रहा। आपको जानकर हैरानी होगी की ऋचा घोष मध्यम गति की गेंदबाज़ भी है और इन्होने ये गेंदबाज़ी क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ़ बंगाल में ही सीखी।
  • 2018 में 13 साल उम्र में ऋचा ने बंगाल क्रिकेटर ऑफ़ द ईयर का अवार्ड जीता था।
  • जब ऋचा का टी-20 वर्ल्ड चैंपियनशिप में चयन हुआ तब इनके पास दो ऑप्शन थे या तो भारत के लिए खेले या फिर अपने माध्यमिक बोर्ड की परीक्षा दे। जी हाँ आपने सही सोचा ऋचा ने भारत की टीम से खेलने का ऑप्शन चुना।
  • ऋचा घोष और भारतीय टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज़ वृद्धमान साहा दोनों एक ही शहर के है और भारतीय महिला टीम की दिग्गज गेंदबाज़ झूलन गोस्वामी भी पश्चिम बंगाल की है। एक इंटरव्यू में ऋचा ने बताया कि झूलन दी और साहा दा इनकी मदद और सपोर्ट करते है दोनों ही बहुत हेल्पफुल है।

Ravi Bakolia

Hi... i m Ravi Bakolia here .. i have done graduation in IT stream ... i just love read and write about the things i passionate about ... cricket is my passion and happy to share amazing facts , things and stats about cricket. i m new in blogging field , need your love, support and blessing ...thanks..Lets catch it yaar

Leave a Reply