राधा यादव की संघर्ष की कहानी #21- Biography of Radha Yadav

     राधा यादव भारतीय महिला क्रिकेटर – हमे अनेक लोगो के संघर्ष की कहानियां सुनाई जाती है कैसे वो एक छोटी सी जगह से उठकर बड़े बड़े काम किए है। आज हम फिर से ऐसी ही एक लड़की के संघर्ष से भरे जीवन के बारे में बताने जा रहे है जो एक छोटे से घर से निकल कर अपना नाम रोशन किया । हम आज आज बात करने वाले है महिला क्रिकेटर राधा यादव के बारे में, तो चलिए जानते है इनके संघर्ष की कहानी।

राधा यादव का पारिवारिक परिचय

राधा यादव ( जिनका पूरा नाम राधा प्रकाश यादव है ) का जन्म 21 अप्रैल सन् 2000 को कांदिवली, मुम्बई ( पश्चिमी )  के एक छोटे से परिवार में हुआ था। इनके पिता ओम प्रकाश यादव, जो कि स्थाई रुप से उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के एक छोटे से गांव आजोशी के मूल निवासी है।

     राधा यादव ( जिनका पूरा नाम राधा प्रकाश यादव है ) का जन्म 21 अप्रैल सन् 2000 को कांदिवली, मुम्बई ( पश्चिमी )  के एक छोटे से परिवार में हुआ था। इनके पिता ओम प्रकाश यादव, जो कि स्थाई रुप से उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के एक छोटे से गांव आजोशी के मूल निवासी है। परिचय

ओम प्रकाश कांदिवली परिवार के साथ कांदिवली में ही घर पर ही एक छोटी सी सब्जियों की दुकान के साथ अपने परिवार भरण पोषण करते थे। इनका घर कुल मिलाकर 225 वर्ग फिट में ही था, उसी में एक छोटी सी सब्जी की दुकान थी।

राधा की एक बहन है जिसका नाम सुमन यादव है। ये अपने चार भाई बहनों में सबसे छोटी है।

  शिक्षा:–

राधा को प्रारंभिक शिक्षा आनंदीबाई दामोदर काले विद्यालय कांदिवली में हुई।

इनकी प्रतिभा और क्रिकेट खेल के प्रति लगाव को देखते हुए इनके कोच प्रफुल्ल नायक ने इनको उस विद्यालय से निकाल कर अवर लेडी ऑफ रेमेडी( कांदिवली ) में दाखिला कराया ।

इसके बाद वहा से राधा ने विद्याकुंज मेमोरियल स्कूल में दाखिला लिया। इन्होंने इंटरमीडिएट की परीक्षा ” के एन इंटर कॉलेज ” से पास किया।

राधा यादव का परिचय

पूरा नामराधा प्रकाश यादव
जन्म21 अप्रैल सन् 2000
स्थानकांदिवली (वेस्ट), मुम्बई
पिताओम प्रकाश यादव
स्थाई निवासीआजोशी गांव, जिला जौनपुर, उत्तर प्रदेश
बहनसुमन यादव
शिक्षाइंटरमीडिएट, के एन इंटर कॉलेज
आयु21 वर्ष
कोचप्रफुल्ल नायक
बल्लेबाजी शैलीदाएं हाथ बल्लेबाज
गेंदबाजी शैलीबाए हाथ धीमी गति गेंदबाज
पसंदीदा क्रिकेटरसचिन तेंदुलकर(भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व बल्लेबाज)
पसंदीदा एक्ट्रेसआलिया भट्ट
पसंदीदा रंगनीला
वैवाहिक स्थितिअविवाहित
शौकक्रिकेट खेलना, भोजन पकाना
जर्सी नंबर21

राधा यादव का क्रिकेटर बनने का सपना :-

राधा के पिता का कहना है कि राधा बचपन में मात्रा 6 वर्ष की आयु में ही घर के पास गली में ही लड़को के साथ क्रिकेट खेला करती थी। इनके पिता कहते है की उनको बहुत बार लोगो से सुनना पड़ा कि बेटी को इतना ज्यादा छूट देना ठीक नही है , लड़को से मारपीट हो गई तो बहुत दिक्कत होगी इस तरह के बहुत से तंज कसते।

राधा के पिता ओम प्रकाश ने किसी चीज की परवाह किए बिना राधा को इनकी मर्जी से क्रिकेट खेलने का पूरा अवसर दिया। इनके खेल के जज्बे और हुनर को देखते हुए इनके कोच  प्रफुल्ल नायक ने इनको बहुत साथ दिया । इनका दूसरे स्कूल में admission कराया और इनको खेल की सारी बारीकियों को सिखाने लगे।

इनके पिता घर का खर्चा चलाने के लिए एक छोटी सी दुकान चलाने के साथ साथ दूध की डेयरी से भी जुड़ गए लेकिन मुंबई महानगर में इतने से कहा गुजारा होने वाला था फिर भी इनके पिता मुंबई में ही एक क्रिकेट स्टेडियम में इनको साइकिल से रोज प्रैक्टिस के लिए छोड़ने जाते थे , आते वक्त राधा कभी पैदल तो कभी ऑटो से आती थी।

अब जब क्रिकेटर बनने का सपना बड़ा था तो संघर्ष भी बड़ा ही हो रहा था। ना केवल राधा बल्कि इनके पिता , परिवार और कोच ने भी अपने हिस्से का संघर्ष कर रहे थे ।

राधा यादव के संघर्ष की कहानी :-

चार भाई बहनों में सबसे छोटी राधा अपने पापा के बहुत करीब थी । पर इनके पिता घर का खर्चा ही किसी तरह चला पाते थे उसमे भी पढ़ाई लिखाई का खर्चा और म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन का अतिक्रमण बार बार दुकान हटाने का डर लगा रहता था। इन सब परिस्थितियों में राधा के पास क्रिकेट किट तो क्या बैट भी लेने के पैसे नही थे, तो लकड़ी के बने हुए बैट के साथ घर से 3 किलो मीटर दूर राजेंद्रनगर स्टेडियम में practice के लिए जाया करती थी।

कितनी कठिन परिस्थितियों के होने पर भी इन्होंने अपना अपनी हिम्मत और धैर्य नहीं खोया और लास्ट तक अपने मेहनत और परिश्रम से एक सफल क्रिकेटर बन कर दिखाया।

घर में चार भाई बहनों का खर्चा उठाना इनके पिता के लिए सच में बहुत कठिन था । परंतु फिर भी इनके उत्साह और क्रिकेट के प्रति लगाव देखते हुए इनके पिता ने कभी भी हार नही मानी और बेटी को क्रिकेटर बनाने का भरसक प्रयास किया और अंत में राधा यादव ने अपना और अपने पिता की परिस्तिथियों का सम्मान करते हुए सपने को साकार किया।

    इन्होंने कैसे बहुत सी समस्याओं का सामना करते हुए एक 225 वर्ग फुट की झोपड़ी से निकल कर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मैच खेलने लगी ये कहानी बहुत ही संघर्ष से भरी हुई और प्रेरणादायक है आज के नवयुवकों के लिए।

पिता के पास पर्याप्त पैसे न होने की वजह से लकड़ी के बने बल्ले से प्रैक्टिस कर करके इन्होंने भारतीय महिला क्रिकेट टीम में अपनी जगह बनाई। संसाधनों की कमी होते हुए भी राधा यादव ने हार नहीं मानी। क्रिकेट की प्रैक्टिस के लिए गांव छोड़कर पिता के साथ मुंबई महानगर के एक छोटे से झोपड़े में रहने चली है ऐसी बेटियों के जज्बे को सलाम।

राधा का संघर्ष वास्तव में सराहनीय है और आज के युवा पीढ़ी के लिए एक प्रेरणास्रोत है भारतीय महिला क्रिकेटर राधा यादव।

इनके घरेलू क्रिकेट खेलने के दौरान मात्र 10 से 15 हजार रुपए ही मिलते थे। बाद में बीसीसीआई के कॉन्ट्रैक्ट साइन करने के बाद इन्हे 3 लाख रुपए मिले । उस पैसे से इन्होंने अपने पिता के लिए एक दुकान लिया। अभी ये चाहती है की एक अच्छा सा घर ले लिया जाए जिससे पूरा परिवार अच्छे से रह सके।

राधा का जबरदस्त क्रिकेट करियर :-

राधा का क्रिकेट करियर इनके घरेलू क्रिकेट से शुरू हुआ । इन्होंने अपने करियर के घरेलू मैचों में पहला क्रिकेट मैच केरल महिला क्रिकेट टीम के खिलाफ 10 जनवरी 2015 में खेला।

      राधा ने अपना पहला T20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच 13 फरवरी 2018 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला था। इनको अक्टूबर 2018 में ICC T20 अंतरराष्ट्रीय मैच में वेस्टइंडीज के खिलाफ इनका भारतीय महिला क्रिकेट में चयन किया गया।

जनवरी 2020 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हुए विश्व कप क्रिकेट मैच में भी भारतीय महिला क्रिकेट टीम में इनका चयन हुआ। इन्होंने भारतीय महिला क्रिकेट टीम में अच्छा प्रदर्शन करते हुए विश्व कप विजय रथ यात्रा में बहुत योगदान दिया। श्रीलंका के खिलाफ हुए महिला क्रिकेट टी20 मैच में 7 विकेट से बढ़त बनाए हुए जीत के बाद इनको प्लेयर ऑफ द मैच घोषित किया।

        ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी20 मैच में भारत के लिए 5 मैचों में 8 विकेट होने के साथ सयुक्त रूप से अग्रणी विकेट लेने वाली महिला गेंदबाज बनी। इसी के साथ 9 नवंबर 2020 को महिला टी20 challenge में 5 विकेट लेने वाली पहली महिला खिलाड़ी बनी।

फरवरी 2021, इन्हे दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ श्रृंखला के लिए भारत की महिला एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय टीम में नाम घोषित किया गया। 14 मार्च 2021 दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारत के लिए महिला एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच में पदार्पण किया। मई 2021 में इन्हे इंग्लैंड की महिला क्रिकेट टीम के खिलाफ एक मात्र मैच के लिए भारत के टेस्ट मैच में नामित किया गया है।

अब राधा यादव 2021 महिला बिग बैश लीग सिडनी सिक्सर्स के लिए खेलती है।

राधा ने अभी तक अपने करियर में कुल 4 फर्स्ट क्लास, 13 लिस्ट A और 16 महिला T20 मैच खेले है।

इनकी जर्सी का नंबर 21 है।

राधा यादव की उपलब्धियां:–

 राधा को अभी बहुत दिन नही हुए क्रिकेट खेलते हुए परंतु उन्होंने कुछ उपलब्धियां हासिल कर ली है जो कि निम्नलिखित है ।

इन्होंने सन 2018 का इमर्जिंग क्रिकेटर का अवार्ड जीता था।

पश्चिमी क्षेत्र अंडर–23 महिला मैच में प्लेयर ऑफ द मैच का खिताब अपने नाम किया था । इसके साथ ही वेस्ट जोन में अंडर–23 महिलाओं में बेस्ट बॉलर का खिताब भी अपने नाम करते हुए बड़ी उपलब्धियां हासिल की।

राधा यादव से जुड़े हुए रोमांचक और कैच ईट तथ्य:–

  •   राधा का जन्म 7 महीने पर ही हो गया था जो की एक बहुत विलक्षणता का प्रतीक भी कहा जा सकता है।
  •  राधा के पसंदीदा क्रिकेटर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर जी है।
  • इनकी पसंदीदा एक्ट्रेस में आलिया भट्ट का नाम सबसे ऊपर आता है जिनकी मूवी और एक्टिंग करने का अंदाज इन्हे बहुत पसंद है।
  •  राधा को क्रिकेट के अलावा खाली समय में खाने बनाने का बहुत बड़ा शौक है इन्हे खाना पकाना बहुत पसंद है।
  •  राधा का पसंदीदा रंग नीला है।
  • इनके क्रिकेट कोच प्रफुल्ल नायक जी है जिन्होंने इन्हे बहुत सारी क्रिकेट की बारीकियों से रुबरु कराया और एक सफल क्रिकेटर बनने की दिशा में हर समय मदद की।
  •   राधा दाहिने हाथ की बल्लेबाज और बाएं हाथ की धीमी गति की गेंदबाज है।
  •   ये जब मात्र 6 वर्ष की थी तभी से इन्होंने क्रिकेट की practice आरंभ कर दिया था। इनके पास बैट के पैसे न होने की वजह से लकड़ी के बनाया हुए बल्ले से क्रिकेट practice करती थी।
  •   ये जब मात्र 12 वर्ष की थी तभी से इन्होंने स्टेट स्तर के क्रिकेट की प्रैक्टिस करना चालू कर दिया था।
  •   राधा जब घरेलू मैच खेलती थी तो इन्हे मात्र 10 से 15 हर्ज रुपए ही मिलते थे जब उन्होंने बीसीसीआई के साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन किया तो इन्हे 3 लाख रुपए मिले।
  • राधा को श्रीलंका महिला टीम के खिलाफ मैच में 7 विकेट से लीग मैच का अंत करते हुए ग्रुप A में टॉप पर रहे हुए प्लेयर ऑफ द मैच घोषित किया गया था।

राधा यादव करियर हो दमदार…Lets Catch it yaar

catch it yaar

Ravi Bakolia

Hi... i m Ravi Bakolia here .. i have done graduation in IT stream ... i just love read and write about the things i passionate about ... cricket is my passion and happy to share amazing facts , things and stats about cricket. i m new in blogging field , need your love, support and blessing ...thanks..Lets catch it yaar

Leave a Reply