क्रिकेटर रेणुका सिंह ठाकुर – एकदिवसीय महिला विश्वकप 2022 के लिए 15 सदस्यी टीम में – Renuka Singh Thakur Biography (Hindi)

क्रिकेटर रेणुका सिंह ठाकुर
#क्रिकेटर #रेणुका-सिंह-ठाकुर
क्रिकेटर रेणुका सिंह ठाकुर
#क्रिकेटर #रेणुका-सिंह-ठाकुर

हाल ही में भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने एकदिवसीय महिला विश्वकप 2022 के लिए अपनी 15 सदस्यी टीम की घोषणा की है जिसमे गेंदबाज़ रेणुका सिंह ठाकुर की भी नाम है । इस 15 सदस्यी टीम में 3 नाम ऐसे है जिनके बारे में बहुत कम लोग जानते है क्यों की ये बहुत कम मैच खेल है या फिर भारत की टीम के लिए अंतरास्ट्रीय मैच खेले ही नहीं है ।

लेकिन ख़ुशी की बात ये है कि ये तीन खिलाडी बहुत ही शानदार खेल से डोमेस्टिक क्रिकेट में पिछले कुछ समय से सबका धयान खिंच रही है और जैसे ही इनको मौका मिल रहा है अंतरास्ट्रीय स्तर पर धमाकेदार एंट्री कर रही है । याद आया अंतरास्ट्रीय क्रिकेट में यास्तिका भाटिया की ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शानदार शुरुआत रही और उन्ही के साथ डेब्यू करने वाली रेणुका सिंह ठाकुर ने भी अपनी तेज़ गेंदबाज़ी से ऑस्ट्रेलियाई महिला बल्लेबाज़ों को चकित किया ।

अभी वर्ल्ड कप में भारत की उम्मीद बनकर जा रही मध्यम गति की तेज तर्रार गेंदबाज़ रेणुका सिंह ठाकुर की बायोग्राफी पढ़ने में आपको खूब मजा आने वाला है क्यों कि ये वो साधारण सी कहानी है जो अपने संघर्ष के दम पर एक ज़िद्दी और मेहनती लड़की ने लिखी है । यकीं मानिये ये कहानी आपको प्रेरणा देने के साथ ही भगवान से शिकायते न करके अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए मेहनत करने को मजबूर कर देगी । तो चलिए शुरू करते है

भारतीय महिला क्रिकेट टीम है तैयार – महिला विश्व कप 2022 और राष्ट्रमंडल खेलो के लिए

रेणुका सिंह ठाकुर का जीवन परिचय

पूरा नामरेणुका सिंह ठाकुर
जन्मदिन1 फरवरी 1996
उम्र 26 साल (2022 तक )
पिता का नाम केहर सिंह ( स्वर्गीय )
माता का नामसुनीता
गांव पारसा, रोहड़ू ( हिमाचल प्रदेश )
स्कूल
कॉलेज
हाइट5 फुट 4 इंच
वजन52 किलो
रंगगोरा
बालों रंगकाला
आँखों का रंगकाला

रेणुका सिंह ठाकुर के संघर्ष की दास्ताँ

इस कहानी में दर्द है पापा के दुनिया को छोड़ कर जाने का , इस कहानी में संघर्ष है माँ और बेटी का, इस कहानी में जूनून है रेणुका सिंह ठाकुर का , इस कहानी में वो ज़िद्द है जिसको पूरा करने की रेणुका ने ठान लिया और आखिरकार पूरा करके दिखाया।

जब रेणुका सिंह ठाकुर मात्र 3 साल की थी तब रेणुका के पिता केहर सिंह का स्वर्गवास हो गया। पिता को क्रिकेट का जबरदस्त शौक था और चाहते थे की उनके बेटा और बेटी भारत के लिए क्रिकेट खेले। अपने बेटे का नाम भारत के पूर्व खिलाडी विनोद कांबली के नाम पर रखा।

रेणुका सिंह बचपन से ही अपने भाई और लड़को के साथ क्रिकेट खेलती थी।

रेणुका सिंह ठाकुर ऐसे ही बचपन में पड़ोस के लड़को के साथ क्रिकेट खेल रही थी और उन को खेलता देखकर रेणुका के अंकल भूपिंदर सिंह ठाकुर की नजर उन पर पड़ी और फिर अंकल की सलाह और मदद से रेणुका सिंह ने हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन HPCA के लिए ट्रायल दिया और अपनी शानदार तेज गेंदबाज़ी के चलते सेलेक्ट हो गयी और फिर यहाँ चल पड़ा क्रिकेट में संघर्ष का कठिन दौर ।

यहाँ हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन में लगातार कड़ी मेहनत और अपने पापा के सपने को पूरा करने के जूनून के साथ तयारी करती रही और फिर ये हिमाचल की लड़की शानदार गेंदबाज़ के रूप में उभर कर आयी।

रेणुका सिंह ठाकुर का क्रिकेट करियर

नाम रेणुका सिंह
पेशाभारतीय महिला क्रिकेटर
रोलदांयें हाथ की मध्यम गति की तेज गेंदबाज़
जर्सी नंबर10
टीमभारतीय महिला क्रिकेट टीम , इंडिया A , इंडिया B, हिमाचल प्रदेश वीमेन ।
कोचपवन सेन
T-20 डेब्यू India vs Australia at Carrara( Australia)- 7 October 2021
वन डे डेब्यू

रेणुका सिंह ठाकुर की लाइफ का टर्निंग पॉइंट

रेणुका सिंह हिमाचल के लिए खेलते हुए 2019 -20 सीजन में भारत के डोमेस्टिक मैचों में 23 विकेट लेकर सबसे ज्यादा विकेट लेने वाली गेंदबाज़ी रही। और 2020 – 2021 सीजन के सिर्फ 5 मैचों में 9 विकेट लेकर शानदार प्रदर्शन किया। चनयकर्ता को एक बेहतरीन विकल्प मिल गया और 2021 में ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए भारत की टीम में सेलेक्ट हो गयी।

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर टी-20 सीरीज में भारत के लिए रेणुका सिंह का डेब्यू रहा पर वन डे में अभी तक डेब्यू नहीं हुआ है।

हाल ही में वर्ल्ड कप और न्यूज़ीलैण्ड के लिए भारत की टीम में रेणुका सिंह ठाकुर का नाम आया है। हिमाचल की ये तेज गेंदबाज़ वर्ल्ड कप में टीम इंडिया के लिए एक तुरुप का हिक्का साबित हो सकती है।

रेणुका सिंह ठाकुर की ताकत और खाशियत

पूर्व भारतीय क्रिकेटर और वीमेन इंडिया A के कोच नौशीन अल खादिर का कहना है कि ” रेणुका सिंह ठाकुर का मैदान पर शांत स्वाभाव और आक्रामक गेंदबाज़ी ताकत है। ” उन्होंने आगे कहा कि ” ये चुका खाने के बाद भी परेशान नहीं होती है , चीज़ो को समझती है , अपने ऊपर विश्वास रखती है कि मैं वापसी कर सकती हूँ। ” और यही बाते रेणुका का बाकि प्लेयर से अलग बनाती है।

नौशीन कहते है ” रेणुका सिंह के पास शानदार इनस्विंगर है , वो अंतिम ओवर में लगातार यॉर्कर डाल कर विपक्षी टीम के होश उड़ा सकती है। अपनी गेंदबाज़ी में ताकत और कमजोरी को पहचानती है , एक मैच ख़राब हो जाने पर ज्यादा परेशान नहीं होती और हम जो प्लान बनाते है उसको एक्सेक्यूटे करने कि ताकत रखती है। “

रेणुका सिंह ठाकुर बहार से शांत और अंदर से आक्रामक गेंदबाज़ है और ऐसे गेंदबाज़ बहुत ही खतरनाक होते है। उम्मीद करते है इस विश्वकप में भारत कि गेंदबाज़ी में रेणुका सिंह अपना सर्वश्रेष्ठ खेल दिखाए।

Ravi Bakolia

Hi... i m Ravi Bakolia here .. i have done graduation in IT stream ... i just love read and write about the things i passionate about ... cricket is my passion and happy to share amazing facts , things and stats about cricket. i m new in blogging field , need your love, support and blessing ...thanks..Lets catch it yaar

Leave a Reply